puurnamaasa-prithu

पूर्णमास गर्ग ७.२८.२६( कृष्ण व कालिन्दी - पुत्र, प्रद्युम्न - सेनानी , वीरधन्वा को पराजित करना ), ब्रह्माण्ड १.२.११.११( मरीचि व सम्भूति की सन्तानों में से एक, पूर्णमास द्वारा सरस्वती से उत्पन्न २ पुत्रों के नाम ), २.३.७.१३०( देवजननी व मणिवर के यक्ष - गुह्यक पुत्रों में से एक ), भागवत १०.६१.१४( कृष्ण व कालिन्दी के १० पुत्रों में से एक ), वायु २८.८( मरीचि व सम्भूति की सन्तानों में से एक, पूर्णमास द्वारा सरस्वती से उत्पन्न २ पुत्रों के नाम ), ६९.१६१/२.८.१५६( देवजननी व मणिवर के यक्ष - गुह्यक पुत्रों में से एक ), द्र. दर्शपूर्णमास poornamaasa/ purnamasa

 

पूर्णमुख वराह १२६.४२(कुब्जाम्रक तीर्थ के अन्तर्गत पूर्णमुख तीर्थ के महत्त्व का कथन )

 

पूर्णा अग्नि ६५.१८( सभागृह स्थापन के संदर्भ में अङ्गिरस - पुत्री पूर्णा से पूर्णकाम करने की प्रार्थना का उल्लेख ), ब्रह्म २.५२.१( गौतमी गङ्गा के उत्तर तट पर पूर्ण तीर्थ में स्नान आदि के माहात्म्य के संदर्भ में इन्द्र द्वारा पूर्ण तीर्थ में अभिषेक से सुकृतों को पूर्ण करने का वृत्तान्त ), ब्रह्माण्ड ३.४.३५.९२( चन्द्रमा की कलाओं के नामों में पूर्णा व पूर्णामृता का उल्लेख ) poornaa/ puurnaa/ purna

 

पूर्णामल भविष्य ३.३.३१.१३६( पट्टन पुर का राजा, वसुओं की आराधना से १० पुत्र व एक कन्या की प्राप्ति ), ३.३.३२.४३( कलियुग में कौरवों का पूर्णामल - पुत्रों के रूप में उत्पन्न होना, पुत्रों  के नाम ), ३.३.३२.१६३( पूर्णामल का पृथ्वीराज - सेनानी मूलवर्मा से युद्ध व मृत्यु ) poornaamala/ purnamala

 

पूर्णासन लक्ष्मीनारायण २.२१५.१५( राजा कालमण्डली के साथ पूर्णासन ऋषि का उल्लेख ), २.२१६.१९( वही)

 

पूर्णाहुति नारद १.५१.४७( पूर्णाहुति के पुरुष रूपी अग्नि के श्रोत्र रूप होने का उल्लेख ), लक्ष्मीनारायण २.१७१.८( पूर्णाहुति विधि )

 

पूर्णिमा अग्नि १२१.६२( महाज्येष्ठी पूर्णिमा काल का विचार ), १९४( विभिन्न मासों में पूर्णिमा व्रतों के नाम ), २९०( आश्विन् शुक्ल पूर्णिमा : अश्व शान्ति कर्म ), गणेश १.४८.३( बहुला पूर्णिमा को त्रिपुर का वध ), गरुड १.१२१( आषाढ पूर्णिमा : चातुर्मास्य व्रत ), गर्ग २.१६( पूर्णिमा को तुलसी सेवन व्रत ), ५.२०.२७( कार्तिक पूर्णिमा को राधा - कृष्ण रासोत्सव ), ६.१४.२( वैशाख पूर्णिमा : समुद्र की पूजा ), १०.७.४२( चैत्र पूर्णिमा को अश्वमेधीय हय का मोचन ), देवीभागवत ९.१२.२०( कार्तिक पूर्णिमा को गङ्गा के जन्म का कथन ), ९.२६.३४( कार्तिक पूर्णिमा को तुलसी जन्म का उल्लेख ), ९.५०.४२( कार्तिक पूर्णिमा को राधा जन्मोत्सव का निर्देश ), नारद १.१८( पूर्णिमा व्रत व उद्यापन विधि ), १.१२४( पूर्णिमा तिथियों  में व्रत विशेषों का वर्णन ), २.२३.७०( पूर्णिमा को आज्य का वर्जन ), २.४३.२९( वैशाख पूर्णिमा : शिव पूजा विधि ), २.५६.२३( ज्येष्ठ पूर्णिमा को पुरुषोत्तम तीर्थ की यात्रा के फल का कथन ), २.६०( ज्येष्ठ पूर्णिमा को पुरुषोत्तम क्षेत्र की यात्रा, कृष्ण, बलराम व सुभद्रा का अभिषेक उत्सव ), २.७१.२८( कार्तिक पूर्णिमा  को भरणी, कृत्तिका आदि नक्षत्रों की स्थिति के अनुसार आकाश पुष्कर, मध्य पुष्कर, कनिष्ठ पुष्कर आदि में स्नान के नियम का कथन ), पद्म १.७.८( दिति द्वारा पुत्र प्राप्ति हेतु चीर्णित ज्येष्ठ शुक्ल पूर्णिमा व्रत की विधि का वर्णन ), १.१८.२१२( कार्तिक तथा वैशाख पूर्णिमा ? को मध्यम व कनिष्ठ पुष्कर में स्नान आदि के महत्त्व का कथन ), ४.१६.२२( आश्विन् पूर्णिमा का माहात्म्य : आश्विन् पूर्णिमा को सर्प द्वारा श्रीहरि को लाजा, वराटिका प्रस्तुत करने पर सर्प की मुक्ति का वृत्तान्त ), ५.९.४( वैशाख पूर्णिमा को राम के हयमेध अश्व के मोचन का कथन ), ५.३६.३२( मार्गशीर्ष पूर्णिमा : हनुमान के लङ्का से पुनरागमन का उल्लेख ), ६.८५.१( वैशाख पूर्णिमा से जलशायी विष्णु महोत्सव का आरम्भ ), ६.२१९.३२( माघ पूर्णिमा को विष्णु द्वारा पुण्डरीक द्विज को इन्द्रप्रस्थ में स्थित पुष्कर में स्नान कराने का वृत्तान्त ), ब्रह्मवैवर्त्त २.२६.८९( कार्तिक पूर्णिमा को गोप - गोपी रास का माहात्म्य ), ब्रह्माण्ड १.२.२८.३८( चन्द्र व सूर्य की स्थितियों के अनुसार राका व अनुमति पूर्णिमाओं के काल का निर्धारण ), ३.४.३१.१२( षोडश पत्राब्ज पर स्थित शक्तियों में से एक ), भविष्य २.२.८.११६( विभिन्न मासों में महापूर्णिमा कालों का निर्धारण, विभिन्न तीर्थों में विभिन्न पूर्णिमाओं के विशेष फलों का कथन ), ३.४.८.५२( भाद्रपद पूर्णिमा को सूर्य का विष्णुशर्मा द्विज रूप में जन्म लेना ), ४.९९.२( पूर्णिमा को सोम का बुध? के साथ जय नामक सङ्ग्राम होने का उल्लेख ), ४.९९.४८( पूर्णिमा को चन्द्रमा द्वारा बुध पुत्र की प्राप्ति ; पूर्णिमा को सोम पूजा की विधि ), ४.१००( वैशाख, कार्तिक, माघ पूर्णिमाओं को स्नान, तर्पण, दान का कथन, भरत द्वारा निर्दोषता की शपथ ), ४.१०४( पूर्णमनोरथ व्रत के अन्तर्गत विभिन्न मासों की पूर्णिमाओं को विष्णु रूपी चन्द्रमा की विभिन्न नामों से अर्चना का निर्देश ; प्रतिमास कायशुद्धि हेतु प्राशन द्रव्य का उल्लेख ), ४.१०५( धरणी द्वारा फाल्गुन आदि पूर्णिमाओं को चीर्णित अशोक पूर्णिमा व्रत की विधि ), ४.१२१.३१( पूर्णिमा व्रत की संक्षिप्त विधि ), ४.१३२( फाल्गुन उत्सव, रघु के नगर को ढोण्ढा राक्षसी से त्रास व उपाय ), ४.१३७.१०( श्रावण पूर्णिमा को रक्षाबन्धन विधि ), भागवत ४.१.१३( मरीचि व कला - पुत्र, विरज आदि सन्तान ), मत्स्य ५३.३( वैशाख पूर्णिमा को ब्रह्मपुराण दान का निर्देश ), ५३.१५( ज्येष्ठ पूर्णिमा को पद्म पुराण के दान का निर्देश ), ५३.१७( आषाढ पूर्णिमा को विष्णु पुराण दान का निर्देश ), ५३.१९( श्रावण पूर्णिमा को वायु पुराण दान का निर्देश ), ५३.२२( भाद्रपद पूर्णिमा को भागवत पुराण दान का निर्देश ), ५३.२४( आश्विन् पूर्णिमा को नारद पुराण दान का निर्देश ), ५३.२७( कार्तिक पूर्णिमा को मार्कण्डेय पुराण दान का निर्देश ), ५३.३५( माघ पूर्णिमा को ब्रह्मवैवर्त्त पुराण दान का निर्देश ), ५३.३७( फाल्गुन पूर्णिमा को लिङ्ग पुराण दान का निर्देश ), ५३.४०( चैत्र पूर्णिमा को वराह पुराण आदि के दान का निर्देश ), १२०.४२( फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा : पुरूरवा द्वारा स्वप्न दर्शन, अत्रि से भेंट ), १४१.३८( राका व अनुमति पूर्णिमा का अर्थ, चन्द्र व अर्क के परस्पर ईक्षण से पूर्णिमा घटित होने का कथन ), १४१.५५( पूर्णिमा के चन्द्रमा में षोडशी कला का अभाव होने के कारण चन्द्रमा के क्षय होने का कथन ), १९५.२८( पूर्णिमागतिक : भार्गव कुल के गोत्रकार ऋषियों में से एक ), वराह ३५.१४( सोम को ब्रह्मा से पौर्णमासी तिथि प्राप्त होने का उल्लेख ), वायु २१.५६( २७वें भाव कल्प की देवी पूर्णमासी व ब्रह्मा के मिथुन से सूर्य देव की मण्डल सहित उत्पत्ति ; पूर्णमासी के नाम के कारण का कथन : ब्रह्मा परमेष्ठी का मन से पूर्ण होना ), ५६.३६( पूर्णिमा काल का निरूपण ), ५६.३८( पूर्णिमा के राका, अनुमति नाम का कारण ), ५६.४१( चन्द्र व अर्क के परस्पर ईक्षण से पूर्णिमा घटित होने का कथन ), विष्णुधर्मोत्तर १.६०.१७( महत्पूर्वा नामक पूर्णिमा के साल व महत्त्व का कथन), ३.१९२( मास नक्षत्र पौर्णमासी व्रत की विधि व माहात्म्य ), ३.१९३( कार्तिक पूर्णिमा व्रत की विधि ), ३.१९५( भाद्रपद पूर्णिमा से आरम्भ होने वाले वरुण व्रत की संक्षिप्त विधि व माहात्म्य ), ३.१९६( आश्विन् पूर्णिमा को शक्र व्रत की विधि व माहात्म्य ), ३.१९७( पूर्णिमा को ब्रह्मकूर्च व्रत की विधि ), ३.२१६( सुगति पौर्णमासी कल्प के अन्तर्गत विभिन्न मासों की पूर्णिमा व्रत की विधि व प्राशन/भोजन विधान ), ३.३१९( पूर्णिमा को दान द्रव्य ), शिव ४.१५.१८( पूर्णिमा को पार्वती व अमावास्या को शिव का क्रौञ्च पर्वत पर स्कन्द के दर्शन हेतु जाने का उल्लेख ), स्कन्द १.३.२.२०.२६( कार्तिक पूर्णिमा को पार्वती द्वारा द्रष्ट शोणाद्रीश पूजा का माहात्म्य ), २.२.४४.१( फाल्गुन पूर्णिमा को सांवत्सर व्रत विधान ), २.७.२५.१(वैशाख की पूर्णिमान्त तीन तिथियों में स्नानादि का माहात्म्य ), २.८.३.४१( ज्येष्ठ पूर्णिमा को चन्द्र हरि व्रत का वर्णन ), ५.१.१०.५( आश्विन् पूर्णिमा को शिव के पट्टबन्ध के दर्शन से विपाप्मा होने का उल्लेख ), ५.१.४८.५१( वैशाख पूर्णिमा को शिव को शिप्रा में स्नान कराने के सत्फल का कथन ),५.३.५१.५( आषाढ, कार्तिक, फाल्गुन, चैत्र, ज्येष्ठ पूर्णिमाओं के मन्वन्तरादि तिथियां होने तथा अनन्त फलदा होने का उल्लेख ), ६.४५.५( कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुष्कर स्नान का माहात्म्य, कार्तिक पूर्णिमा को ज्येष्ठ पुष्कर में कमल में अङ्गुष्ठ मात्र पुरुष के दर्शन होने का वृत्तान्त ), ६.९२.३( कार्तिक पूर्णिमा को भीष्म पञ्चक व्रत का चीर्णन करके ब्रह्मकुण्ड में स्नान का माहात्म्य :  पशुपाल शूद्र का जन्मान्तर में ब्राह्मण बनना ), ६.१११.२५( कार्तिक पूर्णिमा को दमयन्ती द्वारा दान, ब्राह्मणों के शाप से शिला बनना ), ६.१५५.१६( आश्विन् पूर्णिमा : अश्विनौ की पूजा का कथन ), ७.१.१३१.२०( आश्विन् पूर्णिमा : ध्रुवेश्वर लिङ्ग की पूजा के फल का कथन ), ७.१.१६५.१७१( ज्येष्ठ पूर्णिमा : सावित्री स्थल के निकट ब्रह्मसूक्त पठन का निर्देश ), ७.१.१६६.७१( ज्येष्ठ पूर्णिमा को सावित्री द्वारा चीर्णित व्रत की विधि का वर्णन ), ७.१.१७०( श्रावण पूर्णिमा : मातृगण की पूजा का उल्लेख ), ७.१.१७१( कार्तिक पूर्णिमा को दशरथेश्वर लिङ्ग की पूजा के महत्त्व का कथन ), ७.१.१७२( कार्तिक पूर्णिमा को भरतेश्वर लिङ्ग की पूजा के महत्त्व का कथन ), ७.१.१७४( कार्तिक पूर्णिमा को कुन्तीश्वर लिङ्ग की पूजा के माहात्म्य का कथन ), ७.१.१७७( कार्तिक पूर्णिमा को लकुलीश की पूजा के महत्त्व का कथन ), ७.१.२३२.१९( ज्येष्ठ पूर्णिमा : पाण्डव कूप में स्नान, श्राद्ध आदि के माहात्म्य का कथन ), ७.१.२८३.१३( आश्विन् पूर्णिमा : च्यवनेश्वर लिङ्ग की पूजा, सुकन्या - अश्विनौ आख्यान ), ७.३.६.१३( श्रावण पूर्णिमा : वसिष्ठ ऋषि के तर्पण आदि  का निर्देश ), ७.३.४९( कार्तिक पूर्णिमा : परशुराम तीर्थ में स्नान, श्राद्ध आदि के फल का कथन ), ७.३.५४.९( कार्तिक पूर्णिमा : त्रिपुष्कर में स्नान व दान के फल का उल्लेख ), योगवासिष्ठ ६.१.८१.११५टीका, ६.१.१२६.५८( चित्त में पूर्ण ज्ञानोदय की पूर्ण चन्द्रोदय से उपमा ), लक्ष्मीनारायण १.२८०.११९( कार्तिक पूर्णिमा को दीपोत्सव विधि तथा त्रिपुरारि पूजन, मनु, भक्ति, स्कन्द आदि की पूजा का कथन ), २.११.४१( चैत्र शुक्ल पूर्णिमा को कृष्ण का अन्न प्राशन संस्कार ), २.११७.९९( फाल्गुन पूर्णिमा को पवमान अग्नि की प्रतिष्ठा का कथन ), २.१६२.१०२( माघ पूर्णिमा के माहात्म्य के संदर्भ में माघ पूर्णिमा को शतोढु के मूक पुत्र वोढु द्वारा कपिल से ज्ञान व सरस्वती से वाणी प्राप्त करने का वृत्तान्त ), २.२३३.२६( आश्विन् पूर्णिमा को श्रीकृष्ण के गोपियों के साथ रासोत्सव का वर्णन ), ३.१०३.९( पूर्णिमा को दान से चमत्कारी होने का उल्लेख ), ४.५६.८०( फाल्गुन पूर्णिमा को कृष्ण द्वारा कुट्टनी अनङ्गवल्ली तथा उसकी सखियों को मोक्षार्थ ले जाने का उल्लेख ), ४.१०१.११०( कृष्ण की ११२ पत्नियों में से एक, सुधाकर व चन्द्रकला - माता ) poornimaa/ puurnimaa/ purnima

Comments on Puurnimaa

 

पूर्तगण्ड लक्ष्मीनारायण २.१६६.३३( गङ्गा व कृष्ण के ६० अपत्यों में से एक ), २.१६७.३१( पूर्तगण्ड ऋषि का गण्डक नृप के साथ यज्ञ में आगमन का उल्लेख ), २.१९०.९१( श्रीहरि का पूर्तगण्ड ऋषि के साथ गण्ड नृप के नगर लीशवन में आने का कथन ),

 

पूर्ति गरुड ३.२९.६८(कर्म पूर्ति काल में वासुदेव के ध्यान का निर्देश),

 

पूर्व ब्रह्माण्ड ३.४.२१.८३( भण्डासुर के सेनापति पुत्रों में पूर्वमारक का उल्लेख ), ३.४.२६.४८( वही), मत्स्य १४५.१०८( पूर्वातिथि : मन्त्रकार ६ आत्रेय ऋषियों में से एक ), २२७.४( याचित वस्तु के न लौटाने पर पूर्वसाहस नामक दण्ड का निर्देश ), वायु ६१.५८( पूर्वसंहिता के रूप में सामिका का कथन ), वा.रामायण ७.१, लक्ष्मीनारायण ४.८०.१८( राजा नागविक्रम के यज्ञ में पूर्वज विप्रों के सभासद बनने का उल्लेख ) poorva/purva

 

पूर्वचित्ति ब्रह्माण्ड १.२.२३.१८( पूर्वचित्ति अप्सरा की सूर्य रथ में स्थिति का कथन ), भागवत ५.२.३( राजा आग्नीध्र के पूर्वचित्ति अप्सरा पर आकृष्ट होने व उससे ९ पुत्र उत्पन्न करने का वर्णन ), ११.१६.३३( भगवान् के अप्सराओं में पूर्वचित्ति होने का उल्लेख ), द्र रथ सूर्य , विप्रचित्ति poorvachitti/ purvachitti

 

पूर्वाषाढा भागवत ५.२३.६( शिशुमार के लोचन में पूर्वाषाढा नक्षत्र की स्थिति का उल्लेख ), विष्णुधर्मोत्तर २.८३( पूर्वाषाढा स्नान वर्णन नामक अध्याय में वाणिज्य शुद्धि व बहु कृषि प्राप्ति के उपायों का कथन ) poorvaashaadhaa/ purvashadha

 

पूषा अग्नि ८६.८( सुषुप्ति/विद्या कला की २ नाडियों में से एक ), ९३.११( वास्तु मण्डल के देवताओं में से एक ), कूर्म १.४३.१९( फाल्गुन मास में सूर्य का नाम व रश्मि संख्या का उल्लेख ), गर्ग १.५.२७( पूषा के पाण्डु रूप में अंशावतरण का उल्लेख ), ब्रह्म २.९०.८( पूषा के नमुचि से युद्ध का उल्लेख? ), ब्रह्मवैवर्त्त ३.१९.२६( पूषा सूर्य से जङ्घा की रक्षा की प्रार्थना ), ब्रह्माण्ड २.३.३.४२( रात्रि के १५ मुहूर्त्तों में से एक ), २.३.३.६८( कश्यप के पुत्र १२ आदित्यों में से एक ), ३.४.३५.९२( पूष्णा : चन्द्रमा की कलाओं में से एक ), भविष्य ३.४.८.११५( मार्गशीर्ष मास के सूर्य के माहात्म्य के संदर्भ में पूषा सूर्य के ज्योतिषी रूप में जन्म लेकर ज्योतिष का उद्धार करने का वृत्तान्त ), ३.४.१८.१८( संज्ञा विवाह प्रकरण में पूषा के प्रलम्ब से युद्ध का उल्लेख ), भागवत ४.५.१७( दक्ष यज्ञ में चण्डीश द्वारा पूषा के बन्धन का उल्लेख ), ४.५.२१( वीरभद्र द्वारा दक्ष यज्ञ में हंसने वाले पूषा के दांत तोडने का उल्लेख ), ४.७.४( दक्ष यज्ञ की पूर्ति के संदर्भ में पूषा द्वारा यजमान के दांतों से पिष्ट भक्षण का उल्लेख ), मत्स्य ६.४( १२ आदित्यों में से एक ), २४६.५८( वामन के विराट रूप में त्वष्टा व पूषा की भ्रुवों पर स्थिति का उल्लेख ), २५३.२५( ८१ पदीय वास्तुमण्डल के देवताओं में से एक ), २६८.१३( ८१ पदीय वास्तुमण्डल में पूषा देवता को लाजा देने का निर्देश ), वामन ५७.६६( पूषा द्वारा स्कन्द को प्रदत्त २ गणों के नाम ), वायु ५२.१२( शरद् ऋतु में सूर्य रथ पर पर्जन्य व पूषा आदित्यों की स्थिति का उल्लेख ),  ६६.४३/२.५.४३( रात्रि के १५ मुहूर्त्तों में से एक ), ६६.६६/२.५.६६( कश्यप के १२ आदित्य पुत्रों में से एक ), विष्णु २.१०.११( आश्वयुज~ मास में सूर्य रथ में पूषा नामक आदित्य की स्थिति ), विष्णुधर्मोत्तर १.२३४.३( रुद्र द्वारा दक्ष यज्ञ में पूषा के दन्त नाश करने का उल्लेख ), शिव २.२.३७.५४( दक्ष यज्ञ में चण्ड द्वारा पूषा के दन्त तोडने का उल्लेख ), २.२.४१.४९( रुद्र से पूषा के दन्तों के रोहण करने की प्रार्थना ), स्कन्द ५.३.१९१.१५( प्रलय काल में पूषा सूर्य द्वारा अधो दिशा में शोषण का उल्लेख ), हरिवंश ३.५३.१०( पूषा का हयग्रीव असुर से युद्ध ), ३.५५.८८( देवासुर संग्राम में हयग्रीव दैत्य के पूषा देव से युद्ध व पूषा की पराजय का कथन ), महाभारत शान्ति १५.१९( पूषा आदि की अर्चना न होने का कारण ), कथासरित् ८.५.९६( वेत्रवान् : पूषा का अवतार, श्रुतशर्मा के ४ महारथियों में से एक ) pooshaa/pusha

Comments on Pusha

 

पृच्छा स्कन्द ५.२.१७.१६( महाकालवन में पृच्छा देवी के लिङ्ग के समीप अप्सरेश्वर लिङ्ग का माहात्म्य ), योगवासिष्ठ ३.१०९.११( इन्द्रजाल के अन्तर्गत राजा लवण व चण्डाल - कन्या से उत्पन्न पुत्र पृच्छक द्वारा पिता का मांस खाने की तत्परता का कथन ) prichchhaa

 

पृथा ब्रह्माण्ड २.३.७१.१५०( शूर - पुत्र पृथा के कुन्ती नाम का कारण, देवों के अंश रूप ३ पुत्रों को उत्पन्न करने का कथन ), भागवत १.८.१७( उत्तरा के गर्भ की अश्वत्थामा के ब्रह्मास्त्र से रक्षा करने पर पृथा/कुन्ती द्वारा कृष्ण की स्तुति ), ९.२४.३१( शूर की ५ कन्याओं में से एक पृथा का कुन्तिभोज की दत्तक पुत्री बनने व दुर्वासा की कृपा से देवहूति विद्या प्राप्त करने व कर्ण को जन्म देने का वृत्तान्त ), १०.५८.८( कृष्ण से मिलने पर पृथा की प्रतिक्रिया ), मत्स्य ४६.४( शूर की ५ पुत्रियों में से एक पृथा के कुन्ति की दत्तक पुत्री बनने, पाण्डु से विवाह व पुत्रों को जन्म देने का कथन ), वायु ९६.१४९/२.३४.१४९( शूर की ५ पुत्रियों में से एक पृथा के कुन्ति की दत्तक पुत्री बनने, पाण्डु से विवाह व पुत्रों को जन्म देने का कथन ), विष्णु ४.१४.३१( शूर की ५ पुत्रियों में से एक पृथा के कुन्ति की दत्तक पुत्री बनने, पाण्डु से विवाह व पुत्रों को जन्म देने का कथन ) prithaa

 

पृथिवी अग्नि ४१.१९( पृथिवी पूजा की विधि ), २१३( पृथिवी कल्पन व दान की महिमा ), गरुड १.९८.९( प्रसूतकाला गौ का रूप ), गर्ग १.१५.१७( स्त्रियों द्वारा पृथिवी दोहन पर मन:पात्र, मनोरथ दुग्ध का उल्लेख ), ७.२.२७( पृथिवी द्वारा प्रद्युम्न को पादुका भेंट का उल्लेख ), देवीभागवत ४.१८.२( २८वें कलि के भार से पीडित होकर पृथिवी का गो रूप धारण कर इन्द्र, ब्रह्मा, विष्णु आदि के पास जाना ), ८.१०.६( पृथिवी द्वारा उत्तरकुरु वर्ष में वराह की आराधना ), ९.९( मधु -कैटभ के मेद से पृथिवी की उत्पत्ति, वराह -कृत पृथिवी की पूजा विधि,पृथिवी हेतु स्तोत्र ), १२.६.१०६( पृथ्वी : गायत्री सहस्रनामों में से एक ), पद्म १.३.३१( जल से उद्धार हेतु पृथिवी द्वारा वराह की स्तुति ), १.८.१२( पृथु द्वारा पृथिवी का दोहन, दोग्धा व वत्स आदि का कथन ), १.४०.२( हिरण्मय पद्म रूपी पृथिवी का वर्णन ), २.२८.९३( पृथिवी द्वारा बीजों के ग्रसन पर पृथु द्वारा पृथिवी का पीछा, पृथिवी द्वारा कुञ्जर, महिष आदि रूपों का ग्रहण, अन्त में गौ रूप धारण का वृत्तान्त ), २.२९( पृथु द्वारा पृथिवी के दोहन का आख्यान ), ४.२४.२( पृथिवी दान का माहात्म्य ),  ६.३२.४( गौ व भूमि दान के महत्त्व का वर्णन ), ६.२४९.१( पृथिवी का सत्यभामा रूप में अवतरण ), ब्रह्म १.२.७०( पृथिवी रूपी गौ दोहन में वत्स, पात्र, दोग्धा आदि ), ब्रह्मवैवर्त्त २.८( मधु - कैटभ के मेद से वसुधा के जन्म तथा वाराह द्वारा पृथिवी  पूजा की विधि का वर्णन ), ४.४.१४( पृथिवी को पीडित करने वाले पापियों के पाप रूप भारों का कथन ), ब्रह्माण्ड १.२.३६.१९९( पृथु द्वारा पृथिवी दोहन की कथा , दोहन में वत्स, दोग्धा आदि ), १.२.३७.१( पृथिवी के वसुधा, मेदिनी आदि नामों के कारण का कथन ; विभिन्न मन्वन्तरों में पृथिवी के दोहन के संदर्भ में दोग्धा व मनु रूपी वत्सों के नाम ), भविष्य ४.१५८.२( प्रसूयमाना द्विमुखी गौ के पृथ्वी का प्रतीक होने का कथन ), ४.१६१.५०( वही), भागवत १.१६( पृथिवी द्वारा एक पाद वाले वृषभ रूपी धर्म से स्व व्यथा का वर्णन ), ४.१७+ ( पृथु द्वारा पृथिवी का पीछा, देवों व असुरों द्वारा पृथिवी के दोहन का वर्णन ), ६.९( पृथिवी द्वारा इन्द्र से ब्रह्महत्या के अंश के ग्रहण का कथन ), १०.५९( नरकासुर की मृत्यु पर पृथिवी द्वारा कृष्ण की स्तुति, नरक -- पुत्र भगदत्त को कृष्ण को अर्पण करना ), ११.७.३७( दत्तात्रेय द्वारा पृथिवी से क्षमा की शिक्षा प्राप्त करने का कथन ), मत्स्य १०.१२( पृथु द्वारा पृथिवी का निग्रह, विभिन्न सर्गों व प्राणियों द्वारा पृथिवी का दोहन ), १२४.११( पृथिवी के विस्तार व परिमाण का कथन), १६९( रसा/पद्मा नामक पृथिवी के पद्म केसर, दल आदि अङ्गों का कथन, नाभिकमल में स्थिति ), २८४( हेमधरा दान विधि, पृथिवी के विभिन्न नाम ), मार्कण्डेय ४९.६३/४६.६३( त्रेतायुग में प्रजा द्वारा ओषधियों पर जीवन यापन करने पर पृथिवी द्वारा ओषधियों का ग्रसन, ब्रह्मा द्वारा सुमेरु को वत्स बनाकर पृथिवी से ग्राम्य व आरण्यक ओषधियों के बीजों का दोहन ), वराह १.१६( पृथिवी द्वारा वराह के उदर में ब्रह्माण्ड का दर्शन, स्तुति तथा न्यास ), ११२.३०( पृथिवी रूपी उभयतोमुखी कपिला गौ के दान की विधि व महत्त्व का वर्णन ), वामन ६९.१३०( इन्द्र के भूमि पर गिरने से पृथिवी के कम्पन, शमीक - भार्या के एक पुत्र के द्विगुणित होने तथा कम्पन के कारण उत्पन्न पुत्र के इन्द्र - सारथि मातलि बनने का वृत्तान्त ), वायु ५०.६४( पृथिवी के विस्तार का कथन ), ६२.१७५/२.१.१७५( पृथु द्वारा पृथिवी दोहन के संदर्भ में वत्स, दोग्धा आदि ), ६३.१/२.२.१( पृथिवी के मेदिनी, वसुधा आदि नामों का कारण ), विष्णु १.४( यज्ञवराह द्वारा रसातल से पृथिवी का उद्धार, पृथिवी द्वारा वराह की स्तुति, वराह द्वारा पृथिवी को समुद्र पर स्थापित करना ), १.१३.७३( पृथु द्वारा पृथिवी का निग्रह ), ४.२४.१२७( पृथिवी द्वारा राजा जनक से पृथिवी/आत्म जय की व्यर्थता का कथन ), विष्णुधर्मोत्तर १.१०९.२१( पृथु द्वारा गौ रूपी पृथिवी को दोहन योग्य बनाने तथा विभिन्न वत्सों के लिए पृथिवी को दोहन का वृत्तान्त ), २.१३२.१२( पार्थिवी शान्ति के मयूराभ वर्ण का उल्लेख ), शिव २.४.१९.१८( गणेश व कार्तिकेय द्वारा विवाह हेतु पृथ्वी की परिक्रमा, गणेश द्वारा माता - पिता को पृथ्वी मान कर परिक्रमा कर विजयी होने का वृत्तान्त ), स्कन्द १.२.१३.१८९( शतरुद्रिय प्रसंग में पृथिवी द्वारा मेरु लिङ्ग की द्वितनु नाम से पूजा का उल्लेख ), २.१.३१.१८( शिव विवाह में पृथिवी का असमान होना, अगस्त्य के दक्षिण दिशा में गमन से पृथिवी को समानता की प्राप्ति ), २.१.३६.१( यज्ञवराह द्वारा पृथिवी के उद्धार के संदर्भ में यज्ञवराह के स्वरूप का कथन), ५.२.७४.२३( राजा रिपुञ्जय के शासन में पृथिवी के पर्वतों, द्वीपों आदि से रहित अकृष्टपच्या होने का कथन ), ५.३.२०.४७( पृथिवी द्वारा प्रलय काल में मार्कण्डेय को स्तन पान कराना ), ५.३.५१.५६(  प्रसूतकाला गौ की पृथिवी संज्ञा का कथन ), ६.२.६८( चक्रवर्तित्व हेतु पृथिवी दान का माहात्म्य ), ७.१.११.६२( सूर्य - पत्नी निक्षुभा के अपर नाम पृथिवी का उल्लेख ), ७.१.९८.३( दैत्यभार से पीडित पृथिवी द्वारा स्थापित पृथिवीश्वर लिङ्ग का माहात्म्य, लिङ्ग की चन्द्रेश्वर लिङ्ग से समानता ), हरिवंश १.६( पृथु द्वारा पृथिवी का दोहन, विभिन्न दोग्धा व वत्स ), १.५२.४०( पृथ्वी के मेदिनी नाम का कारण, पृथ्वी द्वारा पूर्व काल में स्वभार हरण करने वाली घटनाओं का कथन, द्वापर में भार हरण करने की प्रार्थना ), ३.३४( हिरण्मय अण्ड से स्रवित द्रव के भार से पृथिवी को पीडा, पृथिवी का भार हरण करने के लिए यज्ञवराह का अवतार ), ३.३५( वराह द्वारा पृथिवी पर पर्वतों व नदियों की सृष्टि ), महाभारत कर्ण ९०.१०३, शल्य ९.१९, स्त्री ८.२२( पृथिवी का ब्रह्मलोक में जाना, विष्णु द्वारा दुर्योधन के माध्यम से पृथिवी के भार हरण का आश्वासन ), वा.रामायण १.४०.११( अश्वमेधीय अश्व की खोज के लिए सगर द्वारा पुत्रों को पृथिवी खनन का निर्देश, सगर - पुत्रों द्वारा विभिन्न दिशाओं में दिग्गजों से वार्तालाप ),  लक्ष्मीनारायण १.५०.७( ब्रह्मा द्वारा प्रजा की प्रतिष्ठा के लिए नारायण से जल प्लावित पृथिवी को पृथुल रूप देने की प्रार्थना, वराह द्वारा जल से पृथिवी का उद्धार तथा पृथु द्वारा पृथिवी को समतल बनाने का वृत्तान्त ), १.१०७( विवाह हेतु कार्तिकेय व गणेश में पृथिवी परिक्रमा की प्रतिस्पर्द्धा, गणेश  द्वारा माता, पिता व गौ की परिक्रमा कर विजयी होना ), १.१३२.६४( हिरण्याक्ष द्वारा जलान्त:स्थित पृथिवी का भोग करने व वराह द्वारा पृथिवी के उद्धार का कथन ), १.१३४( हिरण्याण द्वारा विशाल रूप धारण कर पृथिवी को जल में ले जाने का वृत्तान्त, वराह द्वारा हिरण्याक्ष का वध व पृथिवी का उद्धार ), १.३०२, १.३९८.१०( धरणी/पृथिवी का भगवान् वराह से मिलन, धरणी द्वारा वेदवती की छाया पद्मिनी का दर्शन ), १.३९८.४७( धरणी का वियद्राज की पत्नी बनकर क्षेत्रकर्षण से प्राप्त कन्या की पालिता माता बनना ), १.३९८.७७( धरणी द्वारा वसुदान पुत्र को जन्म देना ), २.२.९७( हिरण्याण्ड असुर पर संकर्षण की गदा के प्रहार से मेरु के खण्डों का आकाश आदि में उडकर ग्रह आदि बनना, लवण समुद्र वाले पृथिवी के भाग के पृथिवी से अलग हो जाने का कथन, हिरण्याण्ड व हिरण्यकूर्च असुरों की मृत्यु पर मेरु तथा लोकालोक पर्वत की पृथिवियों का कांचनमयी होना ), २.१०.२१( पाताल पाद आदि के रूप में पृथिवी के स्वरूप का कथन ), २.१४०.५२( पृथिवीतिलक प्रासाद के लक्षण ), २.१७७.५२( गृहारम्भ हेतु पृथिवी की जाग्रती, कलिप्रदा आदि संज्ञाओं की परीक्षा विधि का कथन ), २.२४६.३१( मातृ व मातुलवर्ग के पृथिवीश होने का उल्लेख ), ३.३२.३१( अनलाद असुर के हननार्थ वह्निनारायण के प्राकट्य पर लक्ष्मी का पृथ्वी - पुत्री पार्थिवी श्री के रूप में जन्म लेने का कथन ), कथासरित् ९.३.११४( वीरवर द्वारा स्त्री वेश धारी भूमि के कथन पर राजा विक्रमतुङ्ग की मृत्यु से रक्षा हेतु स्वपुत्र की बलि देने का वृत्तान्त ), १४.२.१५२( पृथिवी द्वारा स्वपुत्र मानसवेग को जामाता नरवाहनदत्त की हत्या से रोकना ) prithivee/ prithivi

 

पृथु अग्नि १८.१२( वेन के दक्षिण पाणि के मन्थन से उत्पन्न पृथु के संक्षिप्त जीवन वृत्त का कीर्तन ), १०७.१५( विभु - पुत्र?, नक्त - पिता ), देवीभागवत ७.९.३१( अनेना - पुत्र, ककुत्स्थ - पौत्र, विश्वरन्धि - पिता ),  पद्म १.७.७९( सुवर्म, शङ्खपद आदि ४ दिक्पालों द्वारा पृथु के पृथिवी के राजा पद पर  अभिषेक का कथन ), १.८.१०( वेन से पृथु का जन्म, पृथु द्वारा पृथिवी के दोहन का वृत्तान्त ), १.३२.५( पृथु नामक ब्राह्मण का पर्युषित आदि ५ प्रेतों से संवाद, पृथु द्वारा प्रेतों की मुक्ति का उद्योग ), २.२८+ ( पृथु की वेन से उत्पत्ति, पृथु द्वारा पृथिवी का दोहन ), ६.९०( पृथु द्वारा नारद से कार्तिक माहात्म्य का विस्तार से श्रवण ), ब्रह्म १.२.४९( वेन की बाहु के मन्थन से पृथु की उत्पत्ति, पृथु द्वारा वसुधा का दोहन ), २.७१.१०( वेन की दक्षिण बाहु के मन्थन से पृथु के जन्म तथा पृथु द्वारा गौ रूपा पृथ्वी के दोहन का संक्षिप्त वृत्तान्त ), ब्रह्माण्ड १.२.३६.१४६( पृथु की वेन से उत्पत्ति व पृथु द्वारा पृथिवी दोहन का आख्यान ), १.२.३७.२२( अन्तर्धान व पावन - पिता, वंश का कथन ), २.३.१.७९( पृथुरश्मि : वरत्री के ४ पुत्रों में से एक ), २.३.७०.२२( शशबिन्दु के ६ प्रधान पुत्रों के पृथुश्रवा, पृथुयशा, पृथुकर्मा आदि नामों का उल्लेख ), २.३.७०.२९( पृथुरुक्म ; रुक्मकवच के ५ पुत्रों में से एक, स्वभ्राता राजा रुक्मेषु का अनुगामी ), भागवत ४.१५( वेन की देह के मन्थन से पृथु की उत्पत्ति, राज्याभिषेक ), ४.१९( पृथु द्वारा अश्वमेध यज्ञ के अनुष्ठान का वर्णन ), ४.२०+ ( पृथु की यज्ञशाला में विष्णु का प्रादुर्भाव, पृथु द्वारा स्तुति, विष्णु द्वारा प्रजा को उपदेश, सनकादि का पृथु को उपदेश, पृथु का तप व परलोक गमन ), ४.२२.५३( अर्चि - पति, विजिताश्व आदि पुत्रों के नाम ), ८.१.२७( तामस मनु के १० पुत्रों में से एक ), ९.६.२०( अनेना - पुत्र, विश्वरन्धि - पिता, इक्ष्वाकु वंश ), ९.२३.३५( रुचक के ५ पुत्रों में से एक, यदु वंश ), ९.२४.१८( चित्ररथ के पुत्रों में से एक, वृष्णि वंश ), मत्स्य ९.१५( तामस मन्वन्तर के सप्तर्षियों में से एक ), १०.१०( पृथु की उत्पत्ति, पृथु द्वारा पृथिवी के दोहन का वृत्तान्त ), ४४.२१( शशबिन्दु के ६ प्रधान पुत्रों के पृथुश्रवा, पृथुयशा, पृथुकर्मा आदि नामों का उल्लेख ), ४४.२८( पृथुरुक्म : रुक्मकवच के ५ पुत्रों में से एक, स्वभ्राता राजा रुक्मेषु का अनुगामी ), ४५.३२( अक्रूर व अश्विनी के पुत्रों में से एक ), ४८.१९( पृथुदर्भ : शिबि के ४ पुत्रों में से एक ), ४९.५५( पार - पुत्र, सुकृत - पिता, नीप/भरद्वाज वंश ), ५०.२( पुरुजानु - पुत्र, भद्राश्व - पिता, अजमीढ/पूरु वंश ), १४५.१००( १९ मन्त्रकार भार्गव ऋषियों में से एक ),  वामन ४७.२१( वेन से पृथु के जन्म का प्रसंग, पृथु द्वारा पिता के म्लेच्छ योनि से उद्धार का उद्योग ), वायु ३३.५७( विभु - पुत्र, नक्त - पिता, भरत वंश ), ५९.९७( १९ मन्त्रवादी ऋषियों में से एक ), ६२.१०७( पृथु की वेन से उत्पत्ति, पृथु द्वारा पृथिवी के दोहन की कथा ), ६३.२२( पृथु वंशानुकीर्तन ), ६५.७९/२.४.७८( पृथुरश्मि : वरूत्री के ४ पुत्रों में से एक ), ८८.२५/२.२६.२५( पृथुरोमा : अनेना - पुत्र, वृषदश्व - पिता, इक्ष्वाकु वंश ), ९५.२२/२.३३.२२( शशबिन्दु के ६ प्रधान पुत्रों के पृथुश्रवा, पृथुयशा, पृथुकर्मा आदि नामों का उल्लेख ), ९६.११३/२.३४.११३( चित्रक के पुत्रों में से एक ), १००.१०९/२.३८.१०९( पृथ : रौच्य मनु के १० पुत्रों में से एक ), विष्णु १.१३.३८( पृथु चरित्र ), १.१४.१( पृथु के वंश का कथन ), १.२२.१( पृथु के राज्याभिषेक के पश्चात् ब्रह्मा द्वारा नक्षत्रों, ग्रहों, विप्रों आदि के अधिपतियों की नियुक्ति का वृत्तान्त ), २.१.३७( विभु - पुत्र, नक्त - पिता, भरत वंश ), ३.१.१८( तामस मनु के काल में सप्तर्षियों में से एक, तामस मनु - पुत्र ), ४.२.३४( अनेना - पुत्र, विष्टराश्व - पिता, इक्ष्वाकु वंश ), ४.१२.६( शशिबिन्दु के ६ प्रधान पुत्रों के पृथुश्रवा, पृथुकर्मा, पृथुकीर्ति, पृथुयशा, पृथुजय, पृथुदान नामों का उल्लेख ), ४.१२.११( रुक्मकवच के ५ पुत्रों में से एक, यदु वंश ), ४.१४.११( चित्रक के पुत्रों में से एक, वृष्णि वंश ), ४.१९.४२( सुपार - पुत्र, सुकृति - पिता, भरद्वाज/भरत वंश ), ५.३७.४६( एरका रूपी वज्र से पृथु, विपृथु आदि यादवों की मृत्यु का उल्लेख ), विष्णुधर्मोत्तर १.१०८.६४( वेन के दक्षिण पाणि के मन्थन से पृथु की उत्पत्ति का कथन ), १.१०९( पृथु का अभिषेक, पृथु द्वारा पृथिवी का दोहन ), स्कन्द १.२.१३.१८८( शतरुद्रिय प्रसंग में पृथु द्वारा तार्क्ष्य लिङ्ग की सहस्रचरण नाम से पूजा का उल्लेख ), ३.१२१.७( पाञ्चाल देश में पृथु की पूजा का निर्देश ), ४.२.८३.७४( पृथु तीर्थ का संक्षिप्त माहात्म्य ), ५.२.४९( पृथु द्वारा स्थापित पृथुकेश्वर लिङ्ग का माहात्म्य : पृथु द्वारा स्त्री रूपी पृथिवी की हत्या से मुक्ति हेतु स्थापना ), ७.१.३३६.९३( पृथु के पृथु नाम का कारण ), ७.१.३३६.१७६( पृथु द्वारा गोष्पद तीर्थ में पिता वेन के पापों का क्षालन, पृथिवी दोहन की कथा ), हरिवंश १.५( पृथु के जन्म व चरित्र का वृत्तान्त ), ३.३०.३(  त्रेतायुग के आरम्भ में प्रजा द्वारा पृथु का राज्याभिषेक करने तथा देवों व दानवों द्वारा समुद्र मन्थन करने का कथन ), वा.रामायण १.७०.२४( अनरण्य - पुत्र, त्रिशङ्कु - पिता, इक्ष्वाकु वंश ), लक्ष्मीनारायण १.५०.४२( यज्ञवाराह द्वारा जल से उद्धृत पृथिवी को समतल करने का कथन ), २.१७७.६४( श्रीहरि का राजा पृथु की नगरी कृपास्थली में आगमन तथा राजा पृथु के पूर्व जन्म का वर्णन : राजा पृथु का पूर्व जन्म में आरण्यक मुनि होने का कथन ), कथासरित् ६.२.१९१( पृथु द्वारा स्वपुत्री हेतु सुरभि को स्वर्ग से लाने का कथन ), द्र. मन्वन्तर, विपृथु prithu

Esoteric Aspect of Prithu